HomeXXX Kahaniट्रेन के सफर में मेरे शौहर की कारस्तानी-2

ट्रेन के सफर में मेरे शौहर की कारस्तानी-2

टी टी ने मुझे गद्दे पर लिटा दिया. मेरे लेटते ही सबने अपने अंडरवीयर उतार दिये. उनका लण्ड देख कर मेरी जान ही सूख गई. मेरे शौहर के मुकाबले काफी बडा़ और लम्बा था सबका.
कहानी का पिछ्ला भाग: ट्रेन के सफर में मेरे शौहर की कारस्तानी-1
मेरी साफ योनि देख कर वो आहें भरने लगे, कहने लगे- वाह … कितना मजा आने वाला है.
टी टी ने हवलदार से कुछ कहा और वो बाहर चला गया.
टी टी ने मुझे कहा- देखो, हमारे पास कंडोम तो नहीं हैं. और बाहर गिराना हमारी आदत नहीं. तो ये तुम्हें खुद ही देखना पडे़गा.
मैं वैसे भी गर्भनिरोधक गोली खाती थी तो गर्भ ठहरने का कोई दिक्कत तो था नहीं.
फिर भी मैंने कोई जवाब नहीं दिया.
इतने देर में हवलदार वापस आ गया और साथ में एक गद्दा ले आया. उसने दोनों सीटों के बीच गद्दा बिछाया और टी टी ने मुझे खींच कर गद्दे पर पीठ के बल लिटा दिया.
सारे लोग अपने अपने कपडे़ उतारने लगे.
मैं समझ गई कि अब ये लोग मेरा कीमा बनाने वाले हैं.
टी टी ने मेरा हाथ पकड़ कर मुझे गद्दे पर पीठ के बल लिटा दिया. वो लोग अभी भी अपने अंडरवीयर पहने हुए थे. मेरे लेटते ही उन लोगों ने अपने अपने अंडरवीयर उतार दिये.
उनका लण्ड देख कर मेरी जान ही सूख गई. मेरे शौहर के मुकाबले काफी बडा़ और लम्बा था सब का.
आम तौर पर सीटों के बीच जितनी जगह होती है, उससे ज्यादा जगह थी यहां.
दो हवलदार मेरे अगल बगल में लेट गये. एक हवलदार मेरे दोनों टांगों के बीच बैठ गया. दोनों हवलदार, जो मेरे आजू बाजू में लेटे थे, ने अपनी एक एक टांग मेरी टांगों पर चढा़ दी और अपने एक एक हाथ मेरे दोनों स्तनों पर रख दिया.
टी टी सीट पर बैठ गया और उसने एक बैग खींच लिया. उस बैग से उसने एक शराब की बोतल निकाली और एक ट्रे में चार गिलास डाल कर उसमें ढालने लगा.
मेरे घर में और ससुराल में शराब तो चलती नहीं है तो मुझे बेचैनी सी होने लगी पर मैं किसी भी प्रकार की बहस करने के स्थिति में नहीं थी.
टी टी ने अपना ग्लास उठाया और पीते हुए बोला- साले देख क्या रहे हो, गर्म करो लौंडिया को.
हवलदारों को शायद इशारे की देर थी, दोनों हवलदारों ने मेरे स्तनों को सहलाना और मसलना शुरू कर दिया, दोनों ने मेरे गले, और गाल को चूमना भी चालू कर दिया.
अचानक जो हवलदार मेरे टांगों के बीच बैठा था उसने मेरे कमर को पकडा़ और मेरे योनि कर अपने होंठ सटा दिये. मुझे तो जैसे 440 वोल्ट का करण्ट लगा हो. वो मेरे योनि की दरार को चाटने लगा. एक कोने से दूसरे कोने तक लगातार चाटने लगा.
कुछ ही पल में मेरी योनि पानी छोड़ने लगी और मेरे बदन में ऐंठन होने लगी. मैं बदन ऐंठने की कोशिश करके लगी पर इतने में दोनों बगल के हवलदारों ने मेरे टांगों पर दबाव बढा़ दिया. दोनों हवलदारों ने मेरे स्तनों को मसलने के बजाय मेरे निप्पल को चूसना शुरू कर दिया.
यूं तो ये सब मेरी मर्जी से नहीं हो रहा था पर मेरे तन में आग लग रही थी. मैंने पता नहीं किस सुध में दोनों हवलदारों के सर पर हाथ रख कर उनके बालों को सहलाने लगी. दोनों हवलदारों में से एक ने मेरे निप्पल को छोडा़ और टी टी से बोला- साहब लौंडिया गर्म हो गई.
टी टी ने अपना ग्लास एक झटके में खत्म किया और बोला- अब तुम लोग हटो, मैं सम्भालता हूं इसको.
सब मुझे छोड़ कर सीट कर चले गये.
टी टी मेरी टांगों के बीच आ गया. मेरे तन में तो आग लगी हुई थी मैंने खुद ही अपनी टांगें दूर तक फैला दी और फुसफुसाते हुए बोल पडी़- साहब, प्लीज जल्दी कीजिए.
वह मुस्कुराया और मेरे योनि के दरार पर अपना लण्ड रख कर एक झटके से अंदर डाल दिया.
मैंने भी अपनी टांगें उसकी कमर के आस पास लपेट ली. टी टी ने मेरे पीठ के इर्द गिर्द से मुझे बांहों में भर लिया और हल्के हल्के झटके लगाने लगा.
थोडे़ देर में वो रुका और उनके अपने होंठ मेरे होंठों से सटा दिये. शराब का भभका मेरे नथुनो में समा गया और शराब का स्वाद मेरे मुंह में भी आने लगा. मैंने चोर नज़रों से हवलदारों की तरफ देखा जो धडा़धड़ ग्लास भर भर कर शराब पी रहे थे और बातें कर रहे थे.
टी टी ने मेरे होंठों को छोड़ा और फिर झटके लगाने लगा. धीरे धीरे झटकों में गति आने लगी और कुछ ही मिनट के बाद वो फिर रूका और मेरे होंठों को चूमने लगा.
मैंने चोर नज़रों से फिर हवलदारों के तरफ देखा पर इस बार मेरे रौंगटे खडे़ हो गये.
सारे हवलदारों में से एक मोबाईल कैमरा से हमारी विडियो ले रहा था.
जैसे ही टी टी ने मेरे होंठों को छोडा़ और झटके लगाने को तैयार हुआ मैंने टी टी से गिड़गिडा़ते हुए कहा- साहब, आप जो चाहते हैं, मैं कर रही हूं, फिर मेरी विडियो क्यो बनवा रहे हैं?
टी टी 90 डिग्री के कोण में उठा और उसका लण्ड अभी भी मेरे योनि में फंसा था और मेरी टांगें उसके कमर के इर्द गिर्द लिपटी थी.
उसने मुझे देखा और खींच कर एक थप्पड़ मारा और बोला- साली रंडी, मुझे मत सिखा कि मुझे क्या करना है. तेरी जैसी रंडी रोज रोज नहीं मिलती, कमाल का बदन है तेरा एकदम तराशा हुआ रसदार. एक तो ये विडियो देख कर कभी कभी मजा लूंगा और बाकियों को विश्वास दिलाने के लिए कि एक जबरदस्त रंडी को हम सब ने भोगा.
उसके बाद मैंने वीडियो के लिए कुछ नहीं कहा और टी टी वापस मेरे ऊपर लेट कर मुझे झटके देने लगा. इस बार उसके झटके ज्यादा लम्बे समय के लिए नहीं चले और वो मेरी योनि को अपने वीर्य से भर दिया.
थोड़ी देर वैसे ही पडा़ रहा और फिर खडा़ हो गया.
उसने बाकी हवलदारों से कहा- अब तुम लोग भी निपट लो.
हवलदारों में से एक हवलदार उठा और मेरी टांगों के बीच आ गया. उनके आव देखा ना ताव … एक झटके से अपना लण्ड मेरी योनि में घुसाने की कोशिश करने लगा.
पर अव्वल तो उसका लण्ड बहुत लम्बा था और बहुत मोटा भी था.
उसने मेरी कमर कस कर थामी और एक जोरदार झटका दिया और उसका लण्ड मेरी योनि को चीरते हुए अंदर समा गया. मेरे मुंह से चीख निकल गई.
हवलदार मुस्कुराया और धीरे धीरे झटके लगाने लगा.
वो भी थोडे़ देर झटके लगाता रहा और रूक कर उसने मेरे होंठों को रस चूसने लगा.
शराब का स्वाद मेरे मुंह में आने लगा. थोडा़ रूक कर उसने फिर झटके लगाना शुरू किया. इस बार जरा भी रूके बगैर उसने अपना वीर्य मेरी योनि में छोड़ कर ही सांस ली और एक झटके से खडा़ हो गया.
मेरी योनि से सारा वीर्य बह कर बाहर आ रहा था.
उसके जाते ही एक और हवलदार ने जगह ले ली और झटके लगाना शुरू किया.
लगातार टांगें फैला कर रखने की वजह से मेरी जांघे दर्द करने लगी थी.
हवलदार ने लगातार झटके लगा कर मेरी योनि में बाढ़ ला दी और उठ गया.
उसके उठते ही अगला हवलदार मेरी टांगों के बीच आ गया.
मैंने हाथ जोड़ कर उससे कहा- लगातार नहीं … थोड़ी देर तो आराम करने दो.
उसने मेरे दोनों हाथों को खोल कर अलग किया और मेरे योनि में अपना लण्ड घुसाता चला गया. मेरे योनि के दिवार जल रहे थे. मेरे मुंह से कराह फूट रही थी, हर झटके से मेरे मुंह से कराह निकल जाती थी.
वो भी लगातार झटके लगाने के बाद अपना वीर्य छोड़ कर खड़ा हो गया.
रिकार्डिंग अभी भी चल रही थी.
टी टी ने कहा- थोडी़ देर आराम कर ले फिर दूसरा राऊंड शुरू करते हैं.
मैंने समय देखा तो पता चला कि इनके साथ मुझे साढे़ चार घण्टे हो चुके हैं और अभी भी सफर का साढे़ सात घण्टे बाकी हैं.
मैं इतना थक चुकी थी कि मैं उसी गद्दे पर सो गई.
जब मेरी दोबारा आंख खुली दो मैंने देखा कि दो हवलदार मेरे स्तनों से खेल रहे है. मैंने समय देखा दो पता चला कि लगभग साढे़ चार घण्टे मैं सो चुकी भी और मेरी मंजिल पहुंचने में और तीन घण्टे बाकी थे.
मेरे उठते ही दोनों हवलदारों ने मुझे छोड़ दिया और टी टी ने मुझे उठा कर सीट पर बैठा दिया.
वो खुद मेरे सामने बैठ गया और मेरे दोनों जाँघों के बीच अपने पैर के तलवे रख दिये और मेरे जाँघों के अंदर की तरफ और योनि को तलवों से सहलाने लगा.
उसने मुझसे पूछा- तेरी चूत तो बहुत जल रही होगी?
मैंने हां कह दिया.
उसने फिर कहा- हमारा लण्ड फिर से खडा़ हो गया है. कभी गांड मरवाई है?
मेरा दिल जोर से धड़कने लगा, मैंने न में सर हिलाया.
उसने एक गिलास शराब डाली और मुझे दिया और कहा- चल जल्दी से इसे गटक जा.
मैंने कहा- मैंने आज तक इसे नहीं पी. और चढ़ गई तो तीन घण्टे में नहीं उतरेगी.
टी टी ने कहा- ट्रेन 6 घण्टे लेट है. उतर जायेगी तब तक. नहीं पियेगी तो बर्दाशत नहीं कर पायेगी.
मैंने ग्लास लिया और एक झटके से पूरा ग्लास पी गई. झम से असर हुआ और पूरा गला जलने लगा. मैं यों ही कुछ देर बैठी रही और नशा चढ़ने लगा. मेरे हाथ पैर कांपने लगे तो टी टी ने मुझे उठा कर वापस गद्दे पर बिठाया और मुझे घोड़ी की तरह दोनों हाथों और घुटनों पर खडा़ कर दिया.
टी टी ने मेरा पर्स खोला और एक क्रीम निकाल कर अपने उंगली में लगाई और मेरी गांड के अंदर लगाने लगा.
जब काफी क्रीम लगा चुका तो उसने कुछ क्रीम अपने लण्ड पर लगाई. दो हवलदार दोनों तरफ से मेरे स्तनों के नीचे लेट गये पीठ के बल और मेरी निप्पल को अपने मुंह में ले लिया और चूसने लगे.
टी टी ने अपना लण्ड मेरी गांड के छेद पर रखा और अंदर धकेलने लगा. मेरी गांड का छेद काफी टाईट था पर क्योंकि क्रीम लगी थी तो लण्ड अन्दर जाने लगा.
जैसे जैसे लण्ड अंदर जा रहा था दर्द बढ़ता जा रहा था. आखिरकार पूरा लण्ड मेरी गांड के अंदर चला गया और टी टी धक्के लगाने लगा.
शायद यह शराब का असर था कि दर्द अपेक्षा से कम महसूस हो रहा था.
वो झटके लगाता रहा और मैं सहती रही.
मैंने पलट कर देखा तो पता चला कि एक हवलदार विडियो बना रहा था.
खैर टी टी ज्यादा देर नहीं टिका और उसने वीर्य बहा दिया.
वो अलग हुआ तो जो हवलदार मेरे निप्पल चूस रहा था वो मेरी गांड का मजा लेने चला गया और जो हवलदार मेरी विडियो बना रहा था वो कैमरा टी टी को पकडा़ कर मेरे निप्पल चूसने के लिए लेट गया.
हवलदार ने अपना लण्ड मेरी गांड में डाल दिया और धक्के लगाने लगा. हवलदार झुक कर मेरी दोनों बगलों से मेरे स्तनों के पकड़ लिया और मसलने लगा.
लगातार धक्कों के बाद वो वीर्य छोड़ कर अलग हुआ और मेरे स्तनों के नीचे लेट गया और निप्पल चूसने लगा. बाकि दोनों हवलदारों ने भी बिना किसी बदलाव के मेरी गांड का मजा लिया.
कहानी जारी रहेगी.

कहानी का अगला भाग: ट्रेन के सफर में मेरे शौहर की कारस्तानी-3

वीडियो शेयर करें
hindi sexy newantervasna hindi sex storyporm storiesbeauty parlour pornantarwasna storysex boosdesi first sexindi xxxdesi chudai hindibeti baap ki chudaigoarisex girlfriendhindi hot sex story combadi chut wali auratssex storygay kahaniyanfirst night sexy storiesmoti aurat ki chutsexi storiesनई सेक्स स्टोरीp xxxsex satori hindiindia sex xnxxchachi ki antarvasnasex to mothergujarati chudai kahanihindisex kathachachi ki chudai sex storymaa ki chutxxxn indian sexjija sali ki chodaixxx com www comantarvasna ki kahani hindi mefriend ki mom ko chodaantravasna com hindi sex storybap beti chudai kahanichudai bhabhi kibhabhi big asshindi sexstoryindian xxx sex storiessex with hot auntyindain sexy storyhindi sex kahaniyasexi mamysex ki new storygrup sexaunt sex storyantarvasna hindi storysexy storey in hindisexy sanjanalatest indian xxxchut wali bhabhicollege sex girlspron sex desiibdian sex storiesantarvasana imagesdesi gay fuckingsexy bhabhi sexmastram ki new kahanifamily group sex storiesमाँjabardasti sex story in hindisxnxhimdi sexy storybollywood antarvasnarasili bhabhixxn.uncle ne chodaanimal sexy kahanihindi sex kahani hindi maisex stry hindidesiauntygirl fast time sexhinde saxe kahaneindian sex home